10/11/2008

झूमती कविता


'झूमती कविता'

बड़ी झूमती कविता मेरे आगोश में आयी है,
शायद तेरे साए से यह धूप चुरा लाई है..

हम तेरे तसव्वुर में दिन रात ही रहते हैं,
कातिल है अदाएं तेरी कातिल ये अंगडाई है..

सूरज जो उगा दिल का, दिन मुझमें उतर आया,
तुम साथ ही थे लेकिन देखा मेरी परछाईं है..

साथ मेरे रहने है कोई चला आया ,
तन्हा कहाँ अब हम पास दिलकश तन्हाई है..

खामोशी से सहना है तूफ़ान जो चला आया,
दिल टूटा अगर टूटा , कहने मे रुसवाई है..

अब रात का अंधियारा छाने को उभर आया,
एहसास हुआ पुरवा तुमेह वापस ले आयी है


http://rachanakar.blogspot.com/2008/11/blog-post_25.html

42 comments:

Shiv Kumar Mishra said...

बहुत खूबसूरत गजल है. लेकिन आपकी ये लाइन तो गजब है.

"शायद तेरे साए से यह धूप चुरा लाई है.."

अद्भुत!
साए से धूप चुराना! गजब की सोच है.

जितेन्द़ भगत said...

लाजवाब-
साथ मेरे रहने है कोई चला आया ,
तन्हा कहाँ अब हम पास दिलकश तन्हाई है..

"SURE" said...

jhumti kavita aapke aagosh me aai hai....vah kavita ki kismat
बड़ी झूमती कविता मेरे आगोश में आयी है,
शायद तेरे साए से यह धूप चुरा लाई है..

Rakesh Kaushik said...

it's really nice, positive every where.
bahut hi khoob?


Rakesh Kaushik

Prabha dash said...

'wish you many happy returns of the day mam, happy b'day.kabhi hasa dete ho, kabhi rula dete ho, kabhee bewaqt neend se jaga daite ho, par jab b dil se hume yaad karte ho, kasam se 2 pal zindgi ka bada dete ho'

with love

prabha dash

ताऊ रामपुरिया said...

सूरज जो उगा दिल का, दिन मुझमें उतर आया,
तुम साथ ही थे लेकिन देखा मेरी परछाईं है..

अति सुंदर ! बेमिसाल रचना है ! बहुत बधाई और शुभकामनाए !

श्रीकांत पाराशर said...

Seemaji, really jhumati kavita hai. bahut achha srijan hai.

neeshoo said...

सीमा जी आप कविता बहुत सुन्दर है । खुद झूमती है हमें भी झुमाती है ।

AMIT VERMA said...

"HAPPY BIRTHDAY SEEMA' GOD BLESS YOU....

AMIT VERMA

मनुज मेहता said...

हम तेरे तसव्वुर में दिन रात ही रहते हैं,
कातिल है अदाएं तेरी कातिल ये अंगडाई है..

सूरज जो उगा दिल का, दिन मुझमें उतर आया,
तुम साथ ही थे लेकिन देखा मेरी परछाईं है..

saye se dhoop chura lana, vakyee mein ek adbhut soch. bahut hi aacha likha ha. kisi ne kaha aapka janmdin hai aaj, meri taraf se bahut bahut badhai aapko is din ke liye.

भूतनाथ said...

एक एक शब्द मोतीजैसे पिरोया गया है और लाजवाब रचना बन पडी है ! शुभकामनाएं !

टिपणी टाइप करी तब तक मालुम हुवा आज आपका जन्म दिन हैं ! आपको जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई !
ईश्वर करे आप हजारो साल तक यूँही खुश-हाल रहे और हमें कविता सुनाती रहे ! पुन: अनंत शुभकामनाएं !

PRINCE said...

"MOM Many happy returns of the day, LOVE YOU

Prince

Anil Pusadkar said...

happy b'day .tum jiyo hazaro saal, saal ke din ho pachaas hazaar.

BrijmohanShrivastava said...

हम अकेले नहीं है पास तन्हाई है सुंदर कल्पना /चित्र का सिलेक्शन भी रचना अनुरूप /और साये से चुरा लाया धूप /

ताऊ रामपुरिया said...

हम तो हमारी आदत अनुसार तीन चार बार आपकी रचना पढ़ने आते ही हैं ! पर यहाँ दुबारा आके मालुम पडा की आपका जन्म दिन हैं ! बहुत बहुत शुभकामनाएं आपको ! और आप खुशहाल लम्बी उम्र प्राप्त करे ! यही आशीर्वाद !
भूतनाथ जी को धन्यवाद की आपका जन्म दिन उन्होंने याद दिला दिया ! अगर हम उनकी टिपणी नही पढ़ते तो हमें ये मालुम ही नही पङता ! पुन: आपका धन्यवाद भूतनाथ जी !

प्रदीप मानोरिया said...

हम तेरे तसव्वुर में दिन रात ही रहते हैं,
कातिल है अदाएं तेरी कातिल ये अंगडाई है..
bahut sundar seema jee
mere blog par padharne kaa anugrah karen

दीपक "तिवारी साहब" said...

सुंदर अवसर पर सुंदर रचना ! जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनाएं !

राज भाटिय़ा said...

साथ मेरे रहने है कोई चला आया ,
तन्हा कहाँ अब हम पास दिलकश तन्हाई है..
क्या बत है, हमेशा की तरह मन भावन
धन्यवाद

राज भाटिय़ा said...

साथ मेरे रहने है कोई चला आया ,
तन्हा कहाँ अब हम पास दिलकश तन्हाई है..
क्या बात है, हमेशा की तरह से मन भावन
धन्यवाद

seema gupta said...

"Respected Tau jee, bhuthnath jee, Manuj jee, Anil Jee, deepak tiwaree jee, tons of thanks for your wishes on my b'day. your wishes have made my day, thanks once again'

regards

मीत said...

साथ मेरे रहने है कोई चला आया ,
तन्हा कहाँ अब हम पास दिलकश तन्हाई है..
khoobsurat....
bahut sunder...

सतीश सक्सेना said...

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें !

सतीश सक्सेना said...

जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें !

अनूप शुक्ल said...

अरे जन्मदिन पर आपकी कविता भी झूमने लगी। बधाई जन्मदिन की बहुत-बहुत!

COMMON MAN said...

सूरज जो उगा दिल का, दिन मुझमें उतर आया,
तुम साथ ही थे लेकिन देखा मेरी परछाईं है

sundar kavita

आत्महंता आस्था said...

I like your compositions, its full with your feelings. Thanks for such living writings and best wishes for your b'day. http://atmhanta.blogspot.com

शोभा said...

very nice.

seema gupta said...

Respected Satish jee, Anup jee,Atmhanta jee thanks a lot and lot for your b'day wishes. Its my pleasure to hav your wishes n good luck today. Thanks to all respected personality's who all are present on my blog for support and encouragement along with their wishes. lots of Regards

makrand said...

happy birthday
wish u wonder ful life
regards

makrand said...

अब रात का अंधियारा छाने को उभर आया,
एहसास हुआ पुरवा तुमेह वापस ले आयी है

app u hi chamakte rahen
tippaniuoan ke ambar barsate rahe
for u r wonderful amazing word selection power
happy birthday
regards

seema gupta said...

Thanks a lot Makrand jee for your wonderful wish. with Regards

राज भाटिय़ा said...

सीमा जी अरे आप का जनम दिन था, ओर मुझे पता ही नही चला......
जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें !
ओर पार्टी पक्की अभी उधारी मै, बस याद रखना.
आप युही मुस्कुराती रहि, ओर मन चाही जिन्दगी जिये, ओर खुब खुशिया आप को भगवान दै.
अमीन

seema gupta said...

Respected Raj je it is my pleasure to hav your blessings and so affectionate wishes on my b'day. Thanks a lot and ya sure party is due any time. with Regards

प्रहार - महेंद्र मिश्रा said...

बड़ी झूमती कविता मेरे आगोश में आयी है,
शायद तेरे साए से यह धूप चुरा लाई है..
khoobasoorat abhivyakti. badhai seema ji.

विनय said...

bahiut hii ruumaanii rachnaa hai...

regards!

Tarun said...

Acchi gazal hai, Happy belated birthday, humara cake kehan hai, cake post kar dijye dekh ke hi swad le lenge....

seema gupta said...

Tarun jee thanks a lot for ur b'day wish n ya cake ke kya baat khe aap address dejeye hum real ka cake behjten hai ... Thanks again. Regards

Prakash singh "Arsh" said...

sabse pahle to seema jee apko b'lated happy B'day... aur sukriya is bat ki ki itni sundar rachana ke liye....
सूरज जो उगा दिल का, दिन मुझमें उतर आया,
तुम साथ ही थे लेकिन देखा मेरी परछाईं है..

umda sonch diya hai aapne kavita ko.. bahot bahot badhai....


regards

mukesh said...

hello seema ji uper apke wellwisher's ke blog badhe to pata chla ki aapka janamdin abhi kuch din pehle hi nikla hai , 1st to apko apke janam din ki dher sari subhkamnaye or mukbarkbad hum to yahi dua karte hai ki aap din dugni or raat chogni unati kare

mukesh said...

aapka janamdin tha or apne hume invite bhi nhi kiya or cake bhi nhi khilaya glat baat hai, bhai ye cake to aap par due rahega kabhi milna hua to aap cake jarur khilana

mukesh said...

har bar ki trha ye poetry bhi dil ko bhaa gai

badhiyan

मोहन वशिष्‍ठ said...

हम तेरे तसव्वुर में दिन रात ही रहते हैं,
कातिल है अदाएं तेरी कातिल ये अंगडाई है..

खूबसूरत बहुत ही सुंदर आई सैल्‍यूट यू एंड यूअर पोयमस रिगार्ड