10/22/2013

चाँद मुझे लौटा दो ना

चाँद मुझे लौटा दो ना 

चंदा से झरती 
झिलमिल रश्मियों के बीच
एक अधूरी मखमली सी 
ख्वाइश का सुनहरा बदन
होले से सुलगा दो ना 
इन पलकों में जो ठिठकी है
उस सुबह को अपनी आहट से
एक बार जरा अलसा दो ना
बेचैन उमंगो का दरिया
पल पल अंगडाई लेता है
आकर फिर सहला दो ना
छु कर के अपनी सांसो से 
मेरे हिस्से का चाँद कभी 
मुझको भी लौटा दो ना

4/23/2013

"FAKHR-E-HIND" AWARD (PROUD OF NATION) To Seema Gupta By President Of India-Smt. Pratibha Devisingh Patil

Husan Ara Trust Presents"FAKHR-E-HIND" AWARD (PROUD OF NATION) To Seema Gupta By President Of India-Smt.  Pratibha Devisingh Patil-in following event held on 22nd April 2013

"Jashn-e-Abul Kalaam Azad"
 — at India Habitt Center, Lodhi Road New Delhi.







3/30/2013

30 मार्च 2013 को पत्रिका के साप्ताहिक परिशष्ट me.next के नियमित स्तंभ web blog में कुछ लम्हें की बातें


30 मार्च 2013 को पत्रिका के साप्ताहिक परिशष्ट me.next के नियमित स्तंभ web blog में कुछ लम्हें की बातें


2/07/2013

Beautiful Romantic urdu Poem-Main Or Tum - Hindi- Urdu Poetry (seema gupta)

"मैं और तुम"
...............
मुट्ठी भर किरणों की बारिश मै और तुम
तुमसे मिलने की एक ख्वाइश मैं और तुम
शबनम के ये कतरे फूल की पत्ती पर
आब है अश्कों का ये मेरे मैं और तुम
पानी पानी अब के भी है सारा कुछ
रोते दिल और बहती आँखें मैं और तुम
पारा पारा अब तो पूरा ज़ामा है
एक उम्मीदों का दामन है मैं और तुम
हंसते लब ये रोते दिल बस हैरानी
बहते पानी की पलकों से मैं और तुम
सीमा है बस ख़्वाब हैं पूरी दुनिया है
ताबीरों पर पहरे पैहम मैं और तुम




12/17/2012

Hindi Urdu Shayari sad poetry on BBC aap ki pasand


Listen me on BBC AAP KI PASAND broad casted from UK on 9th Dec 2012