5/31/2017

"इश्क़-मंतर"

"ISHQ MANTAR"
------------------------
Jism ki deewaroN se
Mit'ti khroNch kar
Rooh dariya ke kinaron par
Khanakte saazoN ki raftaar par
Ujle chaaNd ke libaas par
Sehra ki bilakhti pyaas par
Siyah raat ki azaab sanson ki
Parwaaz par
Likha hai ishq mantar
Isi tilism ko padh kar
RasmoN ki deewaroN ko yaksar dhaa kar
Sochti huN kuchh likhuN
Or
Ishq ki bunyaad se phuti
HarsuN phaili mit'ti ki soNdhi khushbu
Mere shabdoN ko lobaan bana de....
-----------------------------------------------------
"इश्क़-मंतर"
जिस्म की दीवारों से
मिट्टी खरोंच कर
रूह-दरिया के किनारों पर
खनकते साज़ों की रफ़्तार पर
उजले चाँद के लिबgास पर
सहरा की बिलखती प्यास पर
सियाह रात की अज़ाब साँसों की
परवाज पर
लिखा है इश्क़-मंतर..
इसी. तिलिस्म को पढ़ कर...
रस्मों की दीवारों को यक्सर ढा कर
सोचती हूँ ..कुछ लिखूँ
और
इश्क की बुन्याद से फूटी
हर सूं फैली मिट्टी की सोंधी खुश्बू....
मेरे शब्दों को लोबान बना दे..
(Seema)

No comments: