8/11/2017

"तिश्नगी"

"TISHNAGI" ( NAZM )
---------------------
Jaanti huN aaj phir
Haar jayegi mere dil ki awaaz
Aur uski wajeh hogi meri chup
Aur tum phir rahoge khaamosh
Hamesha ki tareh
Thumahri is khaamoshi ke aage
Dekh paa rahi hoon
Thumahre andar bhi
Is pal kuchh naa keh paane ki kasak
Mom ban pighalne lagi hai
Jis ki dhimi dhimi 
Aanch se sulagne lagi hai
Mere Bhitar tumheN naa sun paane ki tishnagi
Is Aah ke sath
Meri chup tumahri khamoshi ke sath
Kuch lamhoN ka safar 
Kai sadiyan ban tay kreNge
------------------------------------------
"तिश्नगी"
जानती हूँ आज फिर 
हार जायेगी मेरे दिल की आवाज़
और उसकी वजह होगी मेरी चुप
और तुम फिर रहोगे ख़ामोश 
हमेशा की तरह
तुम्हारी इस ख़ामोशी के आगे
देख पा रही हूँ 
तुम्हारे अंदर भी 
इस पल कुछ ना कह पाने की कसक
मोम बन पिघलने लगी है 
जिस की धीमी धीमी
आँच से सुलगने लगी है
मेरे भीतर तुम्हें ना सुन पाने की तिश्नगी
इस आह के साथ
मेरी चुप  तुम्हारी ख़ामोशी के साथ
कुछ लम्हों का सफ़र
कई सदियां बन तय करेंगे

7/12/2017

वस्ल के परिंदे

Nazm
WASL KE PARINDEY
------------------------------
Uski shiri'N baato'N ki
TehniyoN par
Wasl ke parindey chehkeNgey
Or.......
Bepanah ishq ke naghmey
Is fiza meiN guNjeNge
Hijr ki siyah ratoN meiN
Jugnu se raks karte ashq
Dhalak aayeNge labo'N ke
Tapte regzaroN tak
Zamzame mohabbat ke
Apni palko'N ko muNde
Aisi neeNd soyeNge
Jo khwaab se parey hogi
Jo khwaab se parey hogi
--------
उसकी शीरीं बातों की
टहनियों पर
वस्ल के परिंदे चहकेंगे
और .....
बेपनाह इश्क के नग़मे
इस फ़िज़ा मे गूंजेंगे...
हिज्र की सियाह रातों में
जुगनू से रक़्स करते अश्क
ढलक आएँगे लबों के
तपते रेगज़ारों तक...
ज़मज़मे मोहब्बत के
अपनी पलकों को मूंदे
ऐसी नींद सोएंगे
जो ख्वाब से परे होगी...
जो ख्वाब से परे होगी....
(seema gupta)



6/21/2017

कोई दरमान नहीं मिलता

Koi DarmaN Nahi Milta"
---------------------------------------
Suno jaana

Bahut kuch tum say kehna Hai... 

Nahi ab chup sa rehna Hai.....

Ajab jazbat hain dil men

Naye naghmat hain dil men

Ajab si ek tamanna jo

Hamare dil me palti hai.

Machalti hai chalakti hai

Homak kar banheen phailati

Wo jaise..

Koi nadaan bachchi ho

Kabhi aansu chalakte haIn

Kabhi ek khowf taari hai

Kisi ko Kia batayein ham

hamara dil nahi lagta.

Hamaray man k sagar men

nai mowjeen obharti hain.

Naiy toofan atay hain.

Hamaray dil k aaNgan men

Yahi mehman atay hain

Hua hai Kia ajab ham ko

Hai dil me zakhm bhi aisa

Koi marham nahi jiska

Asar ki be- yaqeeni say

Dua bhi kaNp jati hai

Koi darmaN nahi milta

Koi chara nahi milta
(Seema)
कोई दरमान नहीं मिलता
-------------------------------
सुनो जाना
बहुत कुछ तुमसे कहना है
नहीं अब चुप सा रहना है
अज़ब जज़्बात हैं दिल में
नये नगमात हैं दिल में
अज़ब सी एक तमनना जो
हमारे दिल में पलती है
मचलती है छलकती है
हुमक कर बाहें फैलाती
वो जैसे....
कोई नादान बच्ची हो
कभी आँसु छलकते हैं
कभी एक खोफ़ तारी है
किसी को क्या बताएँ हम
हमारा दिल नहीं लगता
हमारे मन के सागर में
नई मोंजें उभरती हैं
नए तुफ़ान आते हैं
हमारे दिल के आँगन में
यही मेहमान आते हैं
हुआ है क्या अजब हम को
है दिल में ज़ख्म भी ऐसा
कोई मरहम नहीं जिसका
असर की बे यकीनी से
दुआ भी कांप जाती है
कोई दरमान नहीं मिलता
कोई चारा नहीं मिलता

5/31/2017

"इश्क़-मंतर"

"ISHQ MANTAR"
------------------------
Jism ki deewaroN se
Mit'ti khroNch kar
Rooh dariya ke kinaron par
Khanakte saazoN ki raftaar par
Ujle chaaNd ke libaas par
Sehra ki bilakhti pyaas par
Siyah raat ki azaab sanson ki
Parwaaz par
Likha hai ishq mantar
Isi tilism ko padh kar
RasmoN ki deewaroN ko yaksar dhaa kar
Sochti huN kuchh likhuN
Or
Ishq ki bunyaad se phuti
HarsuN phaili mit'ti ki soNdhi khushbu
Mere shabdoN ko lobaan bana de....
-----------------------------------------------------
"इश्क़-मंतर"
जिस्म की दीवारों से
मिट्टी खरोंच कर
रूह-दरिया के किनारों पर
खनकते साज़ों की रफ़्तार पर
उजले चाँद के लिबgास पर
सहरा की बिलखती प्यास पर
सियाह रात की अज़ाब साँसों की
परवाज पर
लिखा है इश्क़-मंतर..
इसी. तिलिस्म को पढ़ कर...
रस्मों की दीवारों को यक्सर ढा कर
सोचती हूँ ..कुछ लिखूँ
और
इश्क की बुन्याद से फूटी
हर सूं फैली मिट्टी की सोंधी खुश्बू....
मेरे शब्दों को लोबान बना दे..
(Seema)

3/05/2017

Sanson mein mehkti hai- Urdu Poetry

Dil or dharkta kiyon hai ...Seema Gupta ...Vineet Pandit





Lyrics and Graphics: Seema Gupta
Music Composition and Singing : Vineet Pandit
Ghazal:
usko dekhoon toh ye dil or dharkta kiyon hai
aks iska meri aankhon meiN bikharta kiyoN hai...
vo na izhaar kare baat alag hai lekin
Dekh kar mujhko bhala or sanwarta kiyon hai
raat bhar chand ne choomi hai teri peshaani
usko afsos hai sooraj ye nikalta kiyoN hai
guftugu mein jo tera zikr kabhi aa jaaye
dard toofaN ki tarah dil meiN machalta kiyoN hai
sochti rehti hooN fursat mei yehi maiN"Seema"
kaam jo hona hai aakhir wohi tal-taa kiyoN hai