7/26/2008

"दर्द का वादा"





"दर्द का वादा"


जिंदगी का ना जाने मुझसे और तकाजा क्या है ,

इसके दामन से मेरे दर्द का और वादा क्या है ????

एहसान तेरा है की दुःख दर्द का सैलाब दिया ,
मेरी आँखों को तुने आंसुओं से तार दिया..
एक बार भी न समझा मुझे भाता क्या है?????

छीन कर बैठ गयी मेरी मोहब्बत को कभी,
जब भी मिली एक नयी चाल मेरे साथ चली,
मेरी तकदीर से अब तेरा इरादा क्या है??????


जब भी मिलती है कहीं रूठ के चल देती है,
मेरे दिल को तू फिर एक बार मसल देती है
हैरान हूँ मुकदर को मेरे तराशा क्या है ?????

कौन सी खताओं की मुझे रोज सजा देती है,
मुश्किलें डाल के बस मौत का पता देती है ...
तेरा अब मेरी वफाओं मे और इजाफा क्या है ?????

जिंदगी का ना जाने मुझसे और तकाजा क्या है ,

इसके दामन से मेरे दर्द का और वादा क्या है????

http://rachanakar.blogspot.com/2008/11/blog-post_25.html

25 comments:

lottery winners said...

Ive read this topic for some blogs. But I think this is more informative.

अनुराग said...

जब भी मिलती है कहीं रूठ के चल देती है,
मेरे दिल को तू फिर एक बार मसल देती है
हैरान हूँ मुकदर को मेरे तराशा क्या है ?????

कौन सी खताओं की मुझे रोज सजा देती है,
मुश्किलें डाल के बस मौत का पता देती है ...
तेरा अब मेरी वफाओं मे और इजाफा क्या है ?????
दिल से लिखी ......ओर दिल को छूने वाली...एक ओर .....खास तौर से ये लाइन

जिंदगी का ना जाने मुझसे और तकाजा क्या है ,

भूपेन्द्र राघव । Bhupendra Raghav said...

have no words to say on this.. infact am speachless..
each n every words is completely from deep core of heart n having coated in lot of layers the person feeling internally ..

really a touching poetry...

Anonymous said...

Iss baar to aisa laga jaise ki Dard hadon se kahin aage nikal gaya ho.

Very painful, Seema!

It perturbed me somehow and YOU can say that it left (again) a lot of effect on me!



Of course I was little surprised to see Your photo in this poem but after reading this I conclude that your image and these words seems like - made for each other..



As ever, You are very effective Seema!


Amit Verma

Anonymous said...

Hi Seema ji
Realy nice poeam touch my heart
Sometime happen like this in a love i think you know more then me because your nice poetry .and one think where is not sunlight there is poetry na .
your every poem remind my past days realy nice poeam
keep it
Thank you
Best Regards
*******************
Ritesh Kumar Chaudhary.
Doha,Qatar

शैलेश भारतवासी said...

इस बार की कविता बहुत सुंदर है। सीमा जी,

आपकी लेखनी में निखार आ रहा है।

advocate rashmi saurana said...

seemaji bhut sundar likh rhi hai. jari rhe.

"SURE" said...

bar bar gum ke sagar me tera haath jata kya hai,
muththiyan bhinchti ho par haton me aata kya hai
gujra hua vaqt hai kabhi ayega nahi.
siva gam ke un yaadon me rakha kya hai.
mana ki saans bhi kafi hai jine ko,
par bata bina ehsaas ke bhi jiya jata hai kya......
ye lines maine aapki poetry pad kar nahi us tasveer ko dejh kar likhi hai jinhone gamon ko itne sajeev dang se personify kiya hai.
welldone Seema ji

Pramod Kumar Kush ''tanha" said...

Ek hasrat thii ke aanchal ka mujhe pyaar milay..mainay manzil ko talaasha mujhay bazaar milay...Zindagii aur bataa tera iraada kyaa hai...

Dr Ramavtar Tyagi ji ki rachna kii yaadein taza kar gayee hai aapki ye rachna...kamaal ka 'thought' aur kamaal ka 'expression'....

merii aur se hamesha hi shubhkaamnaayein....

And thanks for adding my line with your's...

छत्तीसगढिया .. Sanjeeva Tiwari said...

आभार, दर्द को बहुत सुन्दर ढंग से उकेरा है आपने ।

मोहन वशिष्‍ठ said...

रास्‍ते में जा रहा था
कि तभी
एक बूंद आकर
मेरे होंटो पर बैठ गई
और अपने दर्द की दास्‍तां
बयां करने लगी
कहीं शायद वो बूंदे यहीं से तो नहीं पहूंची मेरे पास

बहुत शानदार आपको बधाई पे बधाई

Anonymous said...

वाह, वाह, वाह लाजवाब सीमा जी, दरद का अहसास जो आपके पास है शायद ही किसी के पास हो....

जिंदगी ने तुझसे और मांगा ही क्या है...
एक दिल और उसे लगाने की सजा ही क्या है...
ये तो तुझे ही पता है....
कब, क्यूं और किसे देना क्या है...।
--
Imran Jalandhari

Anonymous said...

mam mujhe aapki poem bahut achi lagi. you are a great writer and your poem is really to touch my heart.

"Deepak"

vipinkizindagi said...

बहुत अच्छा लिखा है उस के लिए बधाई
एक शेर मेरा ........
वक़्त की रेत पे कुछ एसे निशान छोड़ते चलो,
की याद करे ज़माना, कुछ एसी यादे छोड़ते चलो,

महेंद्र मिश्रा said...

सुन्दर ढंग से उकेरा है.

Anonymous said...

aadab
kavita achee hai
Firoz Ahmad

Anonymous said...

सीमाजी आपकी ताजा रचना दर्द का वादा पढा बहुत ही दर्द है इसमें. आपकी तस्वीर तो उसमें जान डाल दी है

nirbhik prakash

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
Anonymous said...

Dard ki jin gaharayiun ko aap batana chahti hain apni kalam se woh to aapki in taswir ne khub kar diya....
par kahte hain ki kalam ki takat jyada hoti hai to aapke kalam ko sau salam...

VERY EMOTIONAL POETRY
कौन सी खताओं की मुझे रोज सजा देती है,

मुश्किलें डाल के बस मौत का हल देती है ...

Specially these lines really killing the pateince.

"Prabha Dash"

Anonymous said...

huyee hai der yeh hi sochta hoon kya likhun
likhun mazmoon koi dard ki kavita likhun
hamaaray dil main aatee hain jo baatain jaa likhun
likhun kaisay main tumko kya likhun
tumhain padh kar jo aankhon say baha dariya likhun...................................................
aapka............pardarsh

Anonymous said...

छीन कर बैठ गयी मेरी मोहब्बत को कभी,

जब भी मिली एक नयी चाल मेरे साथ चली,
मेरी तकदीर से अब तेरा इरादा क्या है??????

bahut hi acchi lines hain seema .....
one thing , i want to know the pain , the cause...
Rakesh Verma

vishnu-luvingheart said...

दर्द का सैलाब दिया ,
मेरी आँखों को तुने आंसुओं से तार दिया..

एक बार भी न समझा मुझे भाता क्या है?????

wese to sari hi panktiya acchi hai.. par meri jindagi ke karib si lagi....
kya baat hai....
keep it up...

Anonymous said...

आदरणीय सीमा जी,
आपकी रचना पढकर प्रसन्नता हुई।
आशा है कि आप रंगकर्मी पर भी अपनी रचनाऐं पोस्ट करती रहेंगी।
आपको रंगकर्मी की सदस्यता का लिंक भेज दिया गया है।
रंगकर्मी परिवार मे आपका स्वागत........

अभिवादन के साथ...

परवेज़ सागर
रंगकर्मी परिवार

Ravi said...

जख्म रुह पर देकर मेरे वो
मर्हम जिस्म पर लगाने को कहते है
और वो जो थे कातिल मेरे
मुझे इंसाफ दिलाने को कहते है
...Ravi

mukesh said...

छीन कर बैठ गयी मेरी मोहब्बत को कभी,
जब भी मिली एक नयी चाल मेरे साथ चली,
मेरी तकदीर से अब तेरा इरादा क्या है??????



bahut hi sunder badhaiya