9/13/2017

नया मौसम

 नया मौसम 
------------------
जिस दम रात के उस पहर
ओस का आलिंगन पा कर
किरणों की बारिशें
खामोशियों के सैलाब
तुमाहरी कलाई थाम कर
बे इन्तहा रक्स करते हैं ...
और ख्वाइशों की सिलवटों पर
भोर की पहली किरण  फूटने तक
 मदहोश  हो जातें हैं..
उस दम 
इश्क के सतरंगी आसमान से
धनक रंग चांदनी के रेशमी पहरन का
एक सिरा थाम
तुम मुझ तक आओ
और 
दूसरा सिरा थाम मै तुम तक
सिमट जाऊं
और इश्क़ की शाखों से 
इक नया मौसम फूट आये ......
-----------------------------
Jis dam raat ke us pehar
Oos kaa alingan paa kar 
Kirno'n ki barish, 
Khamoshiyo'n ke sailaab
Thumahri Klaai thaam kar
Be- intha raQs kartein hain 
OR khwaisho'n ki Silwato'n par
Bhor ki pehli Kiran phootne tak 
Madhosh ho jatein hain
Us dam
Ishq ke satrangi aasmaan se 
Dhnak-rang chandni ki Rashmi pehran ka 
Ek sira thaam 
Tum mujh tak aa jao
Aur
Dusra sira thaam Main tum tak
Simat jaun
Aur...ishq ki shakhon se
Ek nya mausam phoot aaye...

No comments: