8/14/2008

प्यार आता है




"प्यार आता है"


तेरी बातों पे ना जाने मुझे क्यों प्यार आता है,
तुझे देखूं ना मैं जब तक नही करार आता है.

तेरी आँखों से यूं लगता है जैसे कोई जाम पीता हूँ,
खुले होठों से गिरते फूलों को मैं थाम लेता हूँ.

नींद आती नही मुझको तो हर पल ख्वाब आतें हैं,
ख्वाबों मे मैं तुझे हर पल अपनी बाँहों मे पाता हूँ.

मिलन के बाद एक पल बिछड़ने का भी आता है,
वो घडी ऐसी होती है जैसे तूफान आता है.

मेरी चाहत की हद कितनी है ये दिखलाना चाहता हूँ,
जीते जी ही नही मर कर भी तुझको पाना चाहता हूँ...


http://vangmaypatrika.blogspot.com/2008/08/blog-post_21.html

14 comments:

नीरज गोस्वामी said...

bahut khoob...seema ji
neeraj

"SURE" said...

मिलन के बाद एक पल बिछड़ने का भी आता है,
वो घडी ऐसी होती है जैसे तूफान आता है.

मेरी चाहत की हद कितनी है ये दिखलाना चाहता हूँ,
जीते जी ही नही मर कर भी तुझको पाना चाहता हूँ...
bahut hi shandar likha gaya hai,ek to te barsata hua sawan us par inti romani ghazal,seema ji iske liye bahut bahut dhanyavad.
kaya khoob likha hai

Advocate Rashmi saurana said...

खुले होंठो से गिरते फूलों को मैं थाम लेता हूँ
बहुत सुंदर पंक्ति. बहुत बढिया. लिखती रहे.

Anil Pusadkar said...

sunder.badhai aapko

ilesh said...

Dard se bhari romantic rachna bahot khub seema ji....

Udan Tashtari said...

बहुत जबरदस्त!!आनन्द आ गया.

PREETI BARTHWAL said...

बहुत सुन्दर रचना

vinay sheel said...

kya baat hai. bahut khoob.

योगेन्द्र मौदगिल said...

शुभकामनाएं पूरे देश और दुनिया को
उनको भी इनको भी आपको भी दोस्तों

स्वतन्त्रता दिवस मुबारक हो
aapki is sunder prem se paripurna rachna pad kar aaj ki subah saarthak hui.....

vinayprajapati said...

आज स्वतंत्रता दिवस आयिए इस बेला पर पूरे देश को आवाज़ लगाये की ग़रीबी और भुखमरी और नहीं रहने देंगे! आज़ादी के मायने नहीं बदलने देंगे! छोटे बड़ों से मार्गदर्शन लेंगे!

mahendra mishra said...

बहुत बढिया आनन्द आ गया.

'sakhi' 'faiyaz'allahabadi said...

Seema ji,
Sochta hooon abhi dus comments aapki kavita aa gaye hain, mai kya likhoon lekin Eric Berne ki baat yaad aa gayee, laga zaroori hai main apne comments bhi zaroor likhoon.
Aap ki ghazal per thursday ko likhay comment ko naheen paya, aap jaanti hain jo pahley esxtempore reactions hotay hain woh kitne aham hotay hain aur uos waqt kay aap kay jazbaat ki akkasi kartay hain reflect kartay hain............kuch aisa hi tha aap ki ghazal ko padhtay hi likhnay per...........aaj ghazal phir se padhi aur phir se likh raha hoon...........

Aap kay virah kay rang daykhay hain ab mohabbat kay rang dekh raha hoon,gahray jazbaati...........mohabbat ho to aisi ho.

G M Rajesh said...

a joke for you on dreams:

your future depends on your dreams
so?
go to sleep!

mukesh said...

kya kuhb likha hai seema ji


meri chhat ki had kitni hai ye dikhlana chahata hu,

jeete ji hi nhi mar kar bhi tujhko pana chahata hu....


very nice seema ji