8/06/2008

"सुकून है"



"सुकून है"

एक अजब खुमार है , एक अजब जूनून है,
तुम अगर नही मिले ,मेरे दिल का खून है
तू ही बता मेरे मन हो क्या अब ऐसा जतन,
हम तुम थोडी देर के लिये कह सकें होके मगन
"सुकून है" "सुकून है" "सुकून है" "सुकून है"

http://vangmaypatrika.blogspot.com/2008/09/blog-post_1958.html

16 comments:

Amit Verma said...

tumhe pakar wapas yahan -
sukoon he sukoon he sukoon he
Great pieceo of Work, Seema.
It show you're feeling better today..

Take Care

'sakhi' 'faiyaz'allahabadi said...

इक सुकून तलाशते एक युग गुज़र गया
हिज्र देके वोह हमे जाने किस तरफ़ गया

कब से दिल तड़प खवहिश -ए-विसाल में
क्यूँ वो दिलरुबा मेरा बा'ईद- अज -नज़र गया

तेरे आने की ख़बर से यूँ दिल की धड़कने बढीं
जैसे आग का लहू पानी में उतर गया

Seema Ji ,
jawab naheen.
Seema aseemit hai. choti see kavita aur itna brahad vistaar...............wah wah.

पंगेबाज said...

अजब ये बुखार है , अजब ये सरूर है
तुम भी खाओ कुनैन,दिल मे ये फ़तूर है
तू ही बता मेरे डाक्टर मै क्या करू ऐसा जतन
खाके ढेरो दवाई तुम ,बोलो नींद मे होके मगन
"सुकून है" "सुकून है" "सुकून है" "सुकून है"

Anil Pusadkar said...

kyaaaaa baat hai. sunder rachana

मीत said...

bahut khoob kaha hai...
badhai ho..
jari rahe

मीत said...

bahut khoob likha hai..
badhai ho..
jari rahe..

शोभा said...

बहुत अच्छा लिखा है।बधाई स्वीकारें।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

बहुत खूब ....

vipinkizindagi said...

bahut khub seema ji...
kya likha kai....

"SURE" said...

"सुकून है" "सुकून है" "सुकून है" "सुकून है"
aapko likh kar mila hai, humen pad kar mila hai,dil ki kalam se zazbaton ki roshnai se likhi har rachna shukun deti hai..aap ki ye lines pad kar bahut shukun mila sara din rat inhi ki talash me to bhatkate rehten hai hum aur aap.English poet John Keats ne shayd yehi soch kar to kaha hoga...
A THING OF BEAUTY IS A JOY FOREVER

नीरज गोस्वामी said...

सुकून है? क्या बात करती हैं आप...जिंदगी में और सुकून ???? "ये तो तलाशे इत्र है मछली बाजार में"
मिल जाए तो बताईये गा....बहुत अच्छी रचना है आपकी.
नीरज

Shiv Kumar Mishra said...

अद्भुत...बहुत सुंदर.

G M Rajesh said...

bekari ki ye jad bhi kya gajab hai
milne ki bhi ajib tadap hai
ulaahanaa dil ke khoon kaa
rakt ranjit chaah aur sanak sukun kaa?

rajesh

Birds Watching Group Ratlam (M.P.) said...

kasish bhi to kaisi
dil ke khoon aur milan ke sukun ki?

मोहन वशिष्‍ठ said...

एक अजब खुमार है
एक अजब जूनून है
अब पढी आपकी रचना
मिल गया सुकून है सुकून है सुकून है

माईंड ब्‍लोईंग

seema gupta said...

'My heartest thanks to all valuable readors for their precious comments n now m also feeling sukun hai sukun hai' regards