12/30/2008

"यादों की पालकी"





"यादों की पालकी"

उनीदीं आँखों को मलते
धुली शाम सी निखरी
खामोशी के साये तले
आकाँक्षाओं की ऊँगली थामे
अनजानी ख्वाइशों से सवंरी
भावनाओ के आँगन में
लरजती उतर आती है
तेरी यादों की पालकी
और कुछ अधूरे शब्दों के
आँचल मे लिपटी तेरी बातें
किरच किरच बिखरने लगती हैं....
" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."




24 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."

लाजवाब ! सुन्दरतम भावभिव्यक्ति !

रामराम !

Nirmla Kapila said...

बहुत खूबसुरत लिखा है

mehek said...

bahut sundar

Amit said...

बहुत ही सुंदर अभिवयक्ति

अक्षय-मन said...

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."
बहुत ही गहराई मे डूबी रचना है ये पंक्तियाँ ही सब कुछ बयान करती हैं....बहुत अच्छा लिखा है फ़िर से आपने......

अक्षय-मन

नीरज गोस्वामी said...

आँचल मे लिपटी तेरी बातें
किरच किरच बिखरने लगती हैं....
" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."
अद्भुत...आप ऐसे शब्द कहाँ से ले आती हैं.????...वाह...
नीरज

मीत said...

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."
सुभान अल्लाह...
---मीत

Vijay Kumar Sappatti said...

bahut sundar rachana ,

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."

ye pankhitiyan kaafi kuch kah jaati hai ..


wah wah , bahut sundar ji ..
bahut badhai ..

main bhi kuch naya likha hai , aapka sneh chahiye ..

aapka vijay
http://poemsofvijay.blogspot.com/

COMMON MAN said...

निशब्द: कर दिया आपने.

makrand said...

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."

great lines

राज भाटिय़ा said...

अति सुंदर,बहुत सुंदरम भाव लिये
धन्यवाद

"अर्श" said...

" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."

पुरी कविता की जान ,..... बहोत खूब लिखा है आपने ढेरो बधाई साथ में नव वर्ष की मंगल्कामानावो के साथ....

अर्श

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

आँचल मे लिपटी तेरी बातें
किरच किरच बिखरने लगती हैं....
" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."
बहुत खूब!

मोहन वशिष्‍ठ said...

लरजती उतर आती है
तेरी यादों की पालकी
और कुछ अधूरे शब्दों के
आँचल मे लिपटी तेरी बातें

बहुत खूब बहुत ही सुंदर सीमा जी हमेशा की तरह

महेंद्र मिश्रा said...

बहुत बढ़िया पोस्ट पढ़कर अच्छी लगी. धन्यवाद. नववर्ष की ढेरो शुभकामनाये और बधाइयाँ स्वीकार करे . आपके परिवार में सुख सम्रद्धि आये और आपका जीवन वैभवपूर्ण रहे . मंगल्कामानाओ के साथ .
महेंद्र मिश्रा,जबलपुर.

सतीश सक्सेना said...

बहुत सुंदर ! नव वर्ष की शुभकामनायें स्वीकार करें !

सचिन मिश्रा said...

Bahut badiya. naye saal ki hardik subkamnayein.

अनुपम अग्रवाल said...

यादों की पालकी में यादों को सजा दिया है आपने. बधाई.

amit verma said...

Wow, what a flight of imagination

Liked it very much too

Take Care

बवाल said...

रोप लूंगा तुम्हें अपनी आँखों में
ज़मीं पे बिख़रने के पहले

क्या बात है सीमाजी ! आप बहुत आगे जाकर मसाएल दर्ज करती हैं । बहुत ख़ूब अल्फ़ाज़ों का शानदार समन्वय होता है आपकी कविताओं में ।

NirjharNeer said...

ittifaq se aapke blog pe aana hua aapke blog ka itna prabhav hua ki tariif mai kuch likhe bina nahi rah paya.
vaise bhi lekhan gar pasand aaye to man se sarahna chahiye..
aapka lekhan yakinan kabil-e-tariif hai.
ek bahot hi khoobsurat bunaai ke sath bejod sabdo ka priyog kiya hai bhaavo ko pirone mai
or bhaav bhi gahre or marmsparshi
sath hi sundar kalakritiyon se susajjit...
dua karta hun aapki kirti door tak faile .
aapka ek prashanshak.

G M Rajesh said...

before welcoming 2009
some beutiful wishes must be dreamed by us
remembering truth is very honestly in our favour really we are looking through our memories what passed away

bhoothnath(नहीं भाई राजीव थेपडा) said...

उनीदीं आँखों को मलते
धुली शाम सी निखरी
खामोशी के साये तले
आकाँक्षाओं की ऊँगली थामे
अनजानी ख्वाइशों से सवंरी
भावनाओ के आँगन में
लरजती उतर आती है
तेरी यादों की पालकी
और कुछ अधूरे शब्दों के
आँचल मे लिपटी तेरी बातें
किरच किरच बिखरने लगती हैं....
" रोप लूंगा तुम्हे अपनी आँखों मे
जमीन पे बिखरने से पहले..."
जाओ सारी ही लाईने मैंने छाँट ली है....मगर किस पंक्ति की ज्यादा तारीफ़ करूँ........??

mukesh said...

bahut hi sunder ,


badhiya savkar kare