5/11/2010

"सीहोर में कुछ अनमोल और अविस्मरनीय पलो के एहसास. 8.05.2010...."

"एक ख्वाब जो मेरी इन आँखों ने देखा भी नहीं था, मगर सच हो गया "















पद्मश्री बशीर बद्र , पद्मश्री बेकल उत्साही , डॉ राहत इन्दोरी , नुसरत मेहंदी , शकील जमाली , खुरशीद हैदर , अख्तर ग्वालियरी , शाकिर रजा, सिकन्दर हयात गड़बड़ , अतहर सिरोंजी , सुलेमान मजाज , जिया राना, सुश्री राना जेबा , फारुक अंजुम, काजी मालिक नवेद , ताजुद्दीन ताज, मोनिका हठीला मेजर संजय चतुर्वेदी , डॉ आज़म इन महान हस्तियों के बीच पुस्तक विमोचन संपन्न "सीहोर (भोपाल) में पद्मश्री बशीर बद्र जी के साथ कुछ ऐतिहासिक पल.......





















"सीहोर (भोपाल) में मेरे प्रथम काव्य संग्रह " विरह के रंग" का विमोचन सुकवि मोहन राय की स्मृति में आयोजित अखिल भारतीय मुशायरे में पद्मश्री बशीर बद्र जी, पद्मश्री बेकल उत्साही जी, नुसरत मेहँदी जी , एवं मुख्य अतिथि विधायक रमेश सक्सेना के हाथो संपन हुआ."

























































" शिवना प्रकाशन एवं भोजक परिवार भुज द्वारा सम्मान के अहम यादगार पल "































" कुछ खुशनुमा लम्हे , चंद ब्लोगर साथियों के साथ जिन्होंने उस मंच पर जाने का हौसला दिया..."
""आदरणीय पंकज सुबीर जी का जितना आभार प्रकट किया जाये वो कम रहेगा.....मेरे काव्य संग्रह "विरह के रंग " को इतना बड़ा मंच इतनी महान हस्तियों के बीच प्रदान किया उसके लिए दिल से आभारी रहूंगी......""
सुकवि मोहन राय की स्मृति को संजोने वाले उनके साथी बधाई के पात्र हैं : रमेश सक्सेना
सुकवि मोहन राय की स्मृति में अखिल भारतीय मुशायरा, पुरस्कार तथा पुस्तक विमोचन समारोह संपन्न
सीहोर () सीहोर की अग्रणी साहित्य प्रकाशन संस्था शिवना प्रकाशन तथा मप्र उर्दू अकादमी के संयुक्त तत्वावधान में सुकवि मोहन राय की स्मृति में अखिल भारतीय मुशायरे का आयोजन किया गया ।

कार्यक्रम में शिवना प्रकाशन की नई पुस्तकों मोनिका हठीला की एक खुशबू टहलती रही, सीमा गुप्ता की विरह के रंग, मेजर संजय चतुर्वेदी की चाँद पर चाँदनी नहीं होती तथा डॉ. सुधा ओम ढींगरा की पुस्तक धूप से रूठी चाँदनी का विमोचन किया गया साथ ही डॉ आजम को सुकवि मोहन राय स्मृति पुरस्कार प्रदान किया गया ।
स्थानीय कुइया गार्डन में आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि विधायक श्री रमेश सक्सेना, सुकवि स्व. मोहन राय की धर्मपत्नी श्रीमती शशिकला राय सहित पद्मश्री बशीर बद्र, पद्मश्री बेकल उत्साही, डॉ. राहत इन्दौरी तथा मध्यप्रदेश उर्दू अकादमी की सचिव नुसरत मेहदी सहित सभी शायरों ने माँ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण तथा सुकवि स्व. मोहन राय के चित्र पर पुष्पाँजलि तथा दीप प्रावलित करके किया । सभी अतिथियों का स्वागत संयोजक श्री राजकुमार गुप्ता द्वारा तथा आयोजन प्रमुख श्री पुरुषोत्तम कुइया ने किया ।

शिवना प्रकाशन की नई पुस्तकों का विमोचन सभी अतिथियों द्वारा किया गया । विमोचन के पश्चात तीनों उपस्थित लेखकों मोनिका हठीला, सीमा गुप्ता तथा संजय चतुर्वेदी का शिवना प्रकाशन तथा भोजक परिवार भुज द्वारा शाल श्रीफल तथा स्मृति चिन्ह भेंट कर किया गया ।

सुकवि स्व. मोहन राय स्मृति पुरस्कार की घोषणा तथा पुरस्कृत होने वाले कवि डॉ. आजम का संक्षिप्त परिचय चयन समिति की अध्यक्ष तथा स्थानीय महाविद्यालय में हिंदी की प्रोफेसर डॉ. श्रीमती पुष्पा दुबे द्वारा दिया गया। पंडित शैलेष तिवारी के स्वस्ति वाचन के बीच अतिथियों द्वारा डॉ. आाम को मंगल तिलक कर, शाल श्रीफल, सम्मान पत्र तथा स्मृति चिन्ह भेंटकर सुकवि स्व. मोहन राय स्मृति पुरस्कार प्रदान किया गया।

मुख्य अतिथि विधायक श्री रमेश सक्सेना जी ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि धन्य हैं शिवना के साथी गण जो कि अपने साथी की स्मृति में इतना भव्य आयोजन कर रहे हैं । श्री सक्सेना ने शिवना प्रकाशन के आयोजन की भूरि भूरि प्रशंसा की । पद्मश्री डॉ. बशीर बद्र ने कहा कि सीहोर आना हमेशा से ही मेरे लिये आकर्षण का विषय रहता है क्योंकि यहां पर मुझे बहुत प्यार मिलता हैनुसरत मेहदी ने अपने संबोधन में कहा कि शिवना प्रकाशन के साथियों ने सीहोर में जो भव्य आयोजन रचा है वैसा कम ही देखने को मिलता है शिवना प्रकाशन ने सीहोर में आज इतिहास रच दिया है

कार्यक्र्रम के सूत्रधार द्वय रमेश हठीला तथा पंकज सुबीर ने सभी अतिथियों को शिवना प्रकाशन की ओर से स्मृति चिन्ह प्रदान किये गये साथ ही कार्यक्रम संचालक श्री प्रदीप एस चौहान को सभी विशिष्ट अतिथियों द्वारा प्रतीक चिन्ह भेंट किया गया । कार्यक्रम के द्वितीय चरण में अखिल भारतीय मुशायरे का आयोजन किया गया शायरों का स्वागत बैज, पुष्पमाला तथा स्मृति चिन्ह प्रदान कर श्री सोनू ठाकुर, विक्की कौशल, सनी गौस्वामी, सुधीर मालवीय, नवेद खान, प्रवीण विश्वकर्मा, प्रकाश अर्श, वीनस केसरी, अंकित सफर, रविकांत पांडे आदि ने किया
पद्मश्री बेकल उत्साही, डॉ. राहत इन्दौरी, नुसरत मेहदी, शकील जमाली, खुरशीद हैदर, अख्तर ग्वालियरी, शाकिर रजा, सिकन्दर हयात गड़बड़, अतहर सिरोंजी, सुलेमान मजाा, जिया राना, सुश्री राना जेबा, फारुक अंजुम, काजी मलिक नवेद, ताजुद्दीन ताज, मोनिका हठीला, मेजर संजय चतुर्वेदी, सीमा गुप्ता, डॉ. आाम जैसे शायरों की रचनाओं का कुइया गार्डन में उपस्थित श्रोता रात तीन बजे तक आनंद लेते रहे । डॉ. राहत इन्दौरी, बेकल उत्साही, खुर्शीद हैदर जैसे शायरों की गजलों का श्रोताओं ने खूब आनंद लिया । श्रोताओं से खचाखच भरे मैदान पर देर रात तक काव्य रस की वर्षा होती रही । श्रोताओं ने अपने मनपसंद शायरों से खूब फरमाइश कर करके गजलें सुनीं । कार्यक्रम संचालन प्रदीप एस चौहान ने किया अंत में आभार शिवना प्रकाशन के पंकज सुबीर ने किया ।
http://prosingh.blogspot.com/2010/05/blog-post_30.html

53 comments:

भारतीय नागरिक - Indian Citizen said...

बहुत बहुत बधाई...

SAMEER said...

bahut accha lag raha hai .aapka ek khawab jo aapki ankho ne dekha nahi tha usse pura hote hue . ap kitni khu ye ye to aapki photo or aapki ankhe hi batarahi hai...

SAMEER said...

bahut bahut badhaiyaaaaaaaaa...
or subhkaamnaye ki aapke or sapne bhi isse tarah puro ho..

दिगम्बर नासवा said...

बहुत बहुत बधाई .... आपका सँचयन बहुत ही लाजवाब है ... विरह की हूक है आपकी रचनाओं में ...

योगेन्द्र मौदगिल said...

बधाई सीमा जी बहुत बहुत बधाई.....

ताऊ रामपुरिया said...

"विरह के रंग" जितनी अमुपम कृति है उसी के अनुरुप ये समारोह भि बहुत ही गरिमा मय हस्तियों के बीच संपन्न हुआ. सारे चित्र उस शुभ अवसर की गरिमा और उत्साह को बयान कर रहे हैं.

मुझे इसमे शामिल ना होने पाने का का दुख हमेशा रहेगा.

बहुत शुभकामनाएं.

रामराम.

G M Rajesh said...

chaliye pankaj ji ke sath karykram hua

pankaj jki se mulakaat hui thi DIG kapur ke dost ki haisiyat se
achchha laga tha unse milkar mujhe bhi sehore me

रंजन said...

बहुत बधाई...

अब समझे इत्ते दिन से कहाँ थे...

सतीश सक्सेना said...

शुभकामनायें , आप योग्य है सीमा जी !

सलीम ख़ान said...

बहुत शुभकामनाएं.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ said...

सीमा जी, लख लख बधाई।
यह वाकई बहुत खुशी की बात है।

Anonymous said...

HEARTLY CONGRATULATIONS MADAM
REALLY ITS A DREAM COME TRUE I KNOW U HENCE CAN UNDERSTAND THE FEELING & EMOTIONS U R GOING THOURH NOW AFTER RECIEVING SUCH A BEAUTIFUL APPRECIATION & REGARDS FROM LEGENDARY PEOPLE OF LITRETURE.
THIS IS ONLY A START NOT THE DESTINATION AND MORW SUCH OCCASSIONS ARE YET TO COME IN LIFE.... SO KEEP UR FINGERS CROSSED FOR THOSE MOMENTS.
WISH U MORE AND MORE SUCCESS IN THIS NEW PHASE OF LIFE

LOVE AND REGARDS

pRABHA

P.N. Subramanian said...

आपको ढेर सारी बधाईयाँ .

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

mubaarak ho aapko Seema ji....

aise hee aage badhte rahiyega!!

ASHOK K DOGRA said...

Dear Seema,

I am delighted to note THAT YOU ACHIEVED YOUR LIFE TIME DESIRE ON 8TH MAY 2010.

MY HEARTIEST CONGRATULATIONS TO YOU FOR THIS ACHIEVEMENT.YOU HAVE PROVED THE FOLLOWING SAYING:-

"KHUD HI KO KAR BULAND ITNA KI HAR TAHREER SE PAHLE KHUDA BANDE SE PUCHE KI BOL TERI RAJA KAYA HAI."

REGARDS.

ASHOK K DOGRA

वीनस केशरी said...

सीमा जी
इस उपलब्धि के लिए आपको हार्दिक बधाई
कार्यक्रम भी भरपूर रहा और आपसे मिलना भी सुखद अनुभव रहा

जल्दी से एक और काव्य संग्रह प्रकाशित करवाये जिससे हम फिर से आपसे मिला सकें :)

एक बार फिर से ढेरों बधाई

- वीनस

Udan Tashtari said...

आनन्द आ गया तस्वीरें देखकर और कार्यक्रम का ब्यौरा पढ़कर.

बहुत बहुत बधाई.

"अर्श" said...

सीमा जी आदाब,
बहुत बहुत बधाई आपको आपके पुस्तक के विमोचन पर जिसमे जनाब बशीर बद्र , जनाब बेकल उत्साही ,जनाब राहत इन्दोरी , नुसरत मेहंदी साहिबा के हांथो हुआ अपने आप में ये एक सौभाग्य की बात है , ! आपसे मिलना भी सुखद अनुभूति है हमारे लिए ... आप अज़ीम शख्सियत की मालकिन हैं !

आपका
अर्श

राज भाटिय़ा said...

सीमा जी बहुत बहुत बधाई आप को सभी चित्र बहुत अच्छॆ लगे

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

यह रंग-बिरंगी रपट बहुत बढ़िया रही!

अनूप शुक्ल said...

वाह,वाह्! बहुत खूब बधाई! बहुत अच्छा लगा आपके काव्य संग्रह के विमोचन की खबर पढ़कर। बहुत अच्छा लगा फोटो देखकर। खूब सारी बधाइयां।

VIPUL said...

Nice pics, i m really very happy for you. may god bless you with all the sucssess & happiness in life.

Love 'n' Luck
Vipul

नीरज जाट जी said...

बधाई हो बधाई।
तालियां, जोरदार तालियां।

मोहन वशिष्‍ठ 9991428447 said...

सीमा जी बहुत बहुत बधाई हो आपको इस संग्रह के विमोचन के लिए

अल्पना वर्मा said...

बहुत बहुत बधाईयां सीमा जी.
--
--
--
--
खुशनसीब हैं जो अच्छे रचनाकारों से मिलना हुआ,सबकी शुभकामनाएँ मिलीं.नयी तस्वीरें भी बहुत अच्छी लगीं.
आप की इस पुस्तक की सफलता हेतु एक बार फिर से दिल से बधाई !

[लग रहा है आप पिछले दों बहुत व्यस्त रही तभी आज कल ब्लॉगजगत में भी कम दिखाई दे रही हैं.]

dhiru singh {धीरू सिंह} said...

बहुत बहुत बधाईयां

Anonymous said...

BEKAL UTSAAHEE KE GEET KEE EK UR PANKTI YAAD AA GAYEE---
"AIY HUSN-O-TAKHAYYUL KEE MEERA,
AIY GEETON KEE NAAHEED,
MAIN KAISAY LIkKHOON PYAR KE GEET;;""
----RAAT MEIN BHEE UNHEEN KA EK SHER LIKHA THA----TAsWEER MEIN UNKE SAATH DEKH KAR YAAD AAGAYA THA---UMMEED HAI ---PADH LYA HOGA-
----------

KAUN HAI YEH ---?------PARDARSH

AIY HUSN-O-TAKHAYYUL KEE MEERA!!---shaayed aap kee kitab mein kaheen ho!!

Vinay Pandey said...

Congrats...

And best of luck for your future and life..

we all are waiting for new book with full of live... and love

Arvind Mishra said...

बहुत बहुत बधाई सीमा जी,सम्मान खुद सम्मानित हुआ आपका सम्मान होने से ...

MUFLIS said...

is mahaan uplabdhee ke liye
aapko dheroN badhaae .

Amit Verma said...

many many congrats seema. These images show once in a life feeling. Its really amezing and you being with bashir badr padma shree winner just fill me with a over whelming feeling. These pictures show me a great lady whom i know. You made me proud and you just blessed me seema. Thanks thumahre wazood ke liye. I truly admire you and always keep admiring to till the end of my days [ far than that i cant say probably]

Parul said...

shubhkamnayen!

डॉ. मनोज मिश्र said...

आपको बहुत बहुत बधाई और जन्मदिवस की शुभ कामना हेतु आपको बहुत धन्यवाद.

क्रिएटिव मंच-Creative Manch said...

सीमा जी
बहुत बहुत बधाई
सभी चित्र बहुत अच्छॆ लगे
पुस्तक की सफलता हेतु शुभकामनाएँ

अमिताभ श्रीवास्तव said...

meree aatmiya shubhkamnaye bhi aour bahut bahut badhaai bhi swikaar kijiye.

भगीरथ said...

बहुत बहुत
पुस्तक की सफलता हेतु शुभकामनाएँ

भगीरथ said...

बहुत बहुत
पुस्तक की सफलता हेतु शुभकामनाएँ

'उदय' said...

...बधाई व शुभकामनाएं !!!

Vidhu said...

हार्दिक बधाई

Vinay Prajapati 'Nazar' said...

बधाई सीमा जी बहुत बहुत बधाई!

माधव said...

congrats

प्रताप नारायण सिंह said...

इस कामयाबी के लिए बहुत बहुत बधाई.
आगे भी आप कामयाबी की बलंदियाँ छूती रहें.

आपकी कविताओं के लिए एक शेर बरबस ही टपक पडा-

सेहरा के ज़िस्म पर कोई दरिया उतर गया
अच्छा हुआ जो आँख मेरी नम वो कर गया

भूतनाथ said...

मैं पीछे से तुझे देख रहा हूँ...
तू बस आगे बढ़-आगे बढ़ !!
मुड़ कर पीछे मत देखना
बस आगे बढ़ और आगे बढ़ !!
मंजिलें बहुत हैं अभी सीमा
तू आगे बढ़ बस आगे बढ़ !!
ऊपर और ऊपर सूरज है
आँखे मिला और आगे बढ़ !!
आसमान तुझे देखता है यार
तू आगे बढ़ बस आगे बढ़ !!
जमीन पर कदम दबा के रख
और बढ़ता चल,तू आगे बढ़ !!
मौत से जीस्त कभी कम नहीं
तू आगे बढ़-सीमा आगे बढ़

राकेश कौशिक said...

हार्दिक बधाई तथा शुभकामनाएं

अभिन्न said...

मुझ से पहले जीतने भी साहित्यप्रेमियों ने आपकी इस उपलब्धि पर आपकी शान में लिखा है मै उन सब का हार्दिक आभारी हूँ क्यूंकि मेरे पास इतने शब्द नहीं थे ओर इन सब ने जो जो लिखा है उस सारे को एक बार फिर सी पढ़ कर देखना मै भी यही कहना चाहता हूँ ओर मेरे बाद जो टिप्पणीकर्ता आयेंगे उनका भी धन्यवाद क्यूंकि जो हम सब न कह लिख सके वो वे लिख देंगे ...............
कितने भाग्यशाली हैं वो लोग जो इस समारोह में शामिल हुए ओर .....खैर हम तो पूरा रिपोर्ताज पढ़ कर कल्पना ही कर सकते हैं ................


एक दम नयी रचना जो खुल नहीं रही उसके लिए भी शुभकामनायें
/वक़्त की गर्द से परे"* *वक़्त की गर्द से परे* *एक पल तुमको सुन लेती* *तारो की आगोश में छिप पर* *अक्स तुम्हारा मन में धर लेती * *प्रेम ठिठोली चंदा की अठखेली * *संग तुम्हारे अंक में भर लेती..* *एक पल तुमको.../

सादर

vipin "mann" said...

bahut bahut badhaai mem,
bahut achcha lagaa ye dekh kar ki aap ko itna badaa manch aur itne mahaan shaayron ka saanidhya praapt hua
aap ki pustak ke prakaashan aur buski safalta ke liye hardik shubhkaamnaaen.
"usko sohrat bhi mili..aur wo badaa itna hua ...
ki mera wo "dost" mujh se faanslaa rakhne lagaa.."
bahut khushi hui mem..
mann
09675747219

जितेन्द़ भगत said...

चलि‍ए आप अच्‍छे काम में व्‍यस्‍त थे:)
मेरी तरफ से बहुत-बहुत बधाई।

श्रद्धा जैन said...

Seema ji,
bahut bahut badhayi aapko .... aapki pustak padhne ki lalasa bharat jaane par puri karungi......

Pyaasa Sajal said...

bahut bahut badhayee ho...kitna achha kaha aapne...khwaab jo dekha bhi nai wo poora ho gaya..sachmuch hindi blogging ki taakat kuch aisi ho rahee hai :)

Dr. Sanjay Dani said...

बधाई, आपकी site बहुत ही colour full है ,जो बिरले ही देख्ने मिलता है। लाजवाब colour full site . काश मेरी भी सिते ऐसी रंगीन हो पाती।

How do we know said...

bahut bahut badhai! maine ye abhi dekha... aur aap is samaroh mein bahut sundar lag rahi hain..

drasifbly said...

waah sima ji-i m proud of you

Mukesh Garg said...

seema ji pehle to deri ke liye chama chaunga.

wese to aapki virha ke rang ki sabhi rachnaye padh kar aapko phle hi badhiya de chuka hu, magar yaha ye sab nhi dekh paya tha pata nhi kese but yaha miss kar gaya tha

kher aapko meri traf se dhero badhiya